इज़राइल और बहरीन के मध्य ऐतिहासिक समझौता- घोषणा डोनाल्ड ट्रंप ने की

सर्वविदित है कि इस्लामिक देशों और इज़राइल देश के बीच तनातनी बहुत पुरानी समस्या है। लेकिन पिछले एक महीने में जिस तरह से इज़राइल ने दो दो इस्लामिक राष्ट्रों से समझौता किया उससे लगता है बदलाव शुरू हो चुका है।

लेकिन इन सब में अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और उनकी यह भूमिका किसी और तरफ इशारा कर रही है। इस बार भी इस समझौते की जानकारी डोनाल्ड ट्रम्प की ओर से आयी। उन्होंने ट्वीट किया , “30 दिनों के अंदर इसराइल के साथ शांति समझौता करने वाला दूसरा अरब देश। “

दशकों से ज़्यादातर अरब देश ये कहते हुए इसराइल का बहिष्कार करते रहे हैं कि वो फ़लीस्तीनी विवाद के निपटारे के बाद ही इसराइल से संबंध स्थापित करेंगे। लेकिन पिछले महीने संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई भी इसराइल के साथ अपने रिश्ते सामान्य करने पर सहमत हुआ था। तभी से ये अटकलें लगाई जा रही थीं कि बहरीन भी ऐसा ही कर सकता है।

इज़राइल के प्रधानमंत्री इसे अपनी कूटनीतिज्ञ सफलता मानते हैं और इस तरह वे अपनी राजनीती को विश्व में और मज़बूत कर पाएंगे।

उन्होंने कहा, “ये शांति का एक नया युग है। शांति के लिए शांति। अर्थव्यवस्था के लिए अर्थव्यवस्था। “