दिल्ली दंगा : उमर ख़ालिद यू0ए0पी0 एक्ट के तहत गिरफ्तार

दिल्ली : दिल्ली दंगा मामले में जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर ख़ालिद को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कल रात गिरफ्तार कर लिया।
यूनाइटेड अगेंस्ट हेट के एक बयान के मुताबिक़, 11 घंटे चली पूछताछ के बाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने उमर ख़ालिद को उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों के मामले में “साज़िशकर्ता” के तौर पर गिरफ्तार कर लिया।

उमर ख़ालिद के पिता सैयद कासिम रसूल इलियास ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी और बताया।

“स्पेशल सेल ने मेरे बेटे उमर ख़ालिद को रात 11 बजे गिरफ्तार किया. पुलिस उससे दोपहर 1 बजे से पूछताछ कर रही थी. उसे दिल्ली दंगा मामले में फंसाया गया है”

उमर खालिद द्वारा स्थापित संस्था यूनाइटेड अगेंस्ट हेट ने मांग की है कि दिल्ली पुलिस हर तरह से उमर ख़ालिद की सुरक्षा सुनिश्चित करे।

एफ़आईआर के मुताबिक उमर ख़ालिद ने अमरीकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान दंगों की साज़िश रची और दानिश ने दंगों के लिए लोगों भड़काया।

उमर ख़ालिद की गिरफ्तारी की ख़बर मिलते ही बहुत सारे लोग खालिद के समर्थन में उतर आए और गिरफ्तारी का विरोध करने लगे।
ट्वीट्स #standWithUmarKhalid ट्विटर पर सबसे ऊपर ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली विश्वविद्यालय के अपूर्वानंद और हर्ष मंदर जैसी अलग अलग 12 लोगों ने एक बयान जारी कर उमर ख़ालिद की गिरफ्तारी को पूरी तरह साजिशपूर्ण बताया “

“दिल्ली पुलिस की ओर से हिंसा की साजिश के कई संगीन मामलों में उमर ख़ालिद को फंसाने की बार-बार की गई कोशिशें उनकी असहमति की आवाज़ को दबाने का एक बड़ा प्रयास है. ये बहुत महत्वपूर्ण है कि गिरफ्तार किए गए 20 लोगों में से 19 की उम्र 31 साल से कम है. जिनमें से 17 पर कठोर यूएपीए क़ानून की धाराएं लगाई गई हैं और दिल्ली हिंसा की साजिश रचने के आरोप में कैद कर लिया गया है, जबकि जिन्होंने सच में हिंसा भड़काई और उसमें शामिल रहे, उन्हें छुआ तक नहीं गया है. कैद किए गए लोगों में पांच महिलाएं और एक को छोड़कर सभी छात्र हैं. हम उमर ख़ालिद और अन्य युवा कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी की कड़ी निंदा करते हैं.”

13 जुलाई को हाईकोर्ट में दायर दिल्ली पुलिस के मुताबिक, मारे गए लोगों में से 40 मुसलमान और 13 हिंदू थे।